यूपी शर्मनाक पिता के शव को मोटरसाइकिल से ले जाता पुत्र नहीं उपलब्ध हुआ संव वहान

 *शर्मनाक- बाइक पर पिता का शव लेकर सीएचसी से घर पहुंचा बेटा, फोटो वायरल*


बाराबंकी । हैदरगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। शव वाहन न उपलब्ध होने पर परिजन बाइक से शव को ले जाने को मजबूर हो गये। इसी बीच किसी ने इसका फोटो व वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया है, जिसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही है।

सुबह थाना के रजवापुर थलवारा गांव के 52 वर्षीय व्यक्ति शिवशंकर गौतम क्षय रोग से पीड़ित था। सोमवार को अचानक तबीयत बिगड़ने पर परिवार के लोग सीएचसी हैदरगढ़ लेकर पहुंचे। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। थोड़ी देर बाद  शव को ले जाने के लिए 108 डायल किया। फोन उठने पर सामने वाले व्यक्ति ने बताया कि शव ले जाने के लिए सीएचसी पर वाहन उपलब्ध नहीं है।

इसके बाद परिजन शव ले जाने के लिए वाहनों को ढूंढते रहे। काफी देर जब वाहन ना मिला  तो बेटा गांव के एक व्यक्ति की बाइक पर अपने पिता के शव को किसी तरह बैठाकर घर लेकर पहुंचा। शव को बाइक पर ले जाते हुए देख लोगों ने इसकी वीडियो व फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। अब यह फोटों मंगलवार को वायरल हो गई है जो सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं को मुहं चिढ़ाने का काम कर रही है।

इस मामले में हैदरगढ़ सीएचसी अधीक्षक मुकुंद पटेल से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि शव वाहन जिला चिकित्सालय में रहता है। सीएचसी पर उपलब्ध नहीं हैं।

---------

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image