नव दलित लेखक संघ मासिक गोष्टी डॉ कुसुम वियोगी की अध्यक्षता में संपन्न



नदलेस ने की कहानी एवं काव्य पाठ गोष्ठी



दिल्ली। नव दलित लेखक संघ की मासिक-गोष्ठी का आयोजन शाहदरा के लोनी रोड स्थित संघाराम बुद्ध विहार मे किया गया। गोष्ठी की अध्यक्षता नदलेस के नव निर्वाचित अध्यक्ष डा. कुसुम वियोगी ने की और संचालन डा. अमित धर्मसिंह ने किया। गोष्ठी कहानी परिचर्चा एवं काव्य पाठ दो चरणों में सम्पन्न हुई। प्रथम चरण मे डा. अमिता मेहरोलिया ने अपनी कहानी 'परित्याग' का वाचन किया। कहानी परित्याग, समाज मे स्त्री की सामाजिक स्थित को दर्शाती है और यह बताती है कि स्त्री कमजोर नहीं है, उसे समाज कमजोर बनाता है। वह अपने निर्णय तभी ले सकती है जब वह आर्थिक रूप से मजबूत होगी। कहानी पर पुष्पा विवेक, गीता, सोमी सैन, अमित धर्मसिंह, लोकेश कुमार, महिपाल, बृजपाल सहज, बंशीधर नाहरवाल और डा. कुसुम वियोगी जी ने सारगर्भित विचार रखें। विचारों में कहानी के मजबूत और कमज़ोर दोनों पक्षों पर खुलकर चर्चा हुई। तदुपरांत दूसरे चरण में काव्य पाठ हुआ। बंशीधर नाहरवाल, महिपाल, अमित धर्मसिंह, पुष्पा विवेक, अमिता मेहरोलिया और डा कुसुम वियोगी ने सामाजिक परिवर्तन की बेहतरीन कविताएं प्रस्तुत की। गोष्ठी में राहुल नागपाल, रूपराम बागी और रोक्सी आदि उपस्थित रहे।


बंशीधार नाहरवाल ने कविता "बुढ़ापा बैरी आयेगा" में मानव की वृद्धावस्था को प्रस्तुत करने का प्रयास किया। महिपाल ने अपनी कविता "मुझे मत मारो" प्रस्तुत की, जिसमें एक लड़की भ्रूण अपनी माँ से अपनी बात कहती है कि उसे भी इस जहाँ में आना है। डा. अमित धर्मसिंह ने कविता "एक दिन के लिए एक कविता " प्रस्तुत की। पुष्पा विवेक ने दो कविताएँ प्रस्तुत की, जिनके शीर्षक "मेरा संघर्ष" , और "सविधान बचाओ" रहे। डा. अमिता मेहरोलिया ने कविता "औरत क्या चाहती है" प्रस्तुत की जिसमें एक नारी की क्या अपेक्षाएँ हैं, को दर्शाया गया। अंत में, अध्यक्षता कर डा. कुसुम वियोगी ने अपना वियोग श्रृंगार का गीत 'खत जितने लिखे सब तुम्हें ही लिखे' गाकर प्रस्तुत किया। अध्यक्षीय वक्तव्य में उन्होंने कहा कि गोष्ठी अपने उद्देश्य में पर्याप्त सफल रही। गोष्ठी को वास्तव में कार्यशाला की तरह होना चाहिए, जिसका मकसद एक दूसरे से सीखने और सिखाने का होना चाहिए। खासतौर से कहानी पर जो आज परिचर्चा हुई, वह काबिले तारीफ रही। सभी का काव्यपाठ भी महत्त्वपूर्ण रहा। सभी ने अपनी कविताओं में अपनी सामाजिक अनुभवजन्य स्थितियों परिस्थितियों को बखूबी उकेरा। धन्यवाद ज्ञापन बंशीधर नाहरवाल ने किया।


प्रेषक : सोमी सैन

प्रचार सचिव, नदलेस

26/09/2022

Popular posts
शाहपुर दबंगों की दबंगई पत्रकार को दौड़ाकर पीटा कानून व्यवस्था पर सवाल मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
खतौली सीओ गली के गुंडे जैसे मतदाताओं को गाली गलौज करते हुए चुनाव आयोग ले संज्ञान मतदाता को भी करानी चाहिए सीओ के खिलाफ f.i.r.
Image
दिल्ली पुलिस की सराहनीय कार्रवाई बस लुट मे शामिल तीन लुटेरों को धर दबोचा
Image
दिल्ली पुलिसAATS पूर्वी जिला टीम को बड़ी सफलता शातिर अपराधियों को रंगे हाथों दबोचा
Image