शामली नगर पालिका स्वच्छ स्वास्थ्य आजीविका जनता विचार प्रतियोगिता मैं ले हिस्सा निशिकांत संगल

 नगर पालिका परिषद शामली ने शुरू की एक और पहल 


विचार भेजकर नगरवासी ले स्वच्छता टेक्नोलॉजी चैलेंज प्रतियोगिता में हिस्सा

स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के तहत नगर में रहने वाले आम लोग भी कुछ विषयों पर विचार भेजकर स्वच्छता टेक्नोलॉजी चैलेंज प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर पुरस्कार प्राप्त कर सकते हैं। प्रतियोगिता में शामिल होने वाले व्यक्ति को "स्वच्छ पड़ोस" यानी उनका आस-पास पड़ोस कितना साफ एवं स्वच्छ है, इस पर पचास शब्दों में अपने विचार भेजने हैं, इसी तरह "स्वास्थ्य" विषय पर भी आपको अपने विचार भेजने हैं यानी आपके शहर में स्वास्थ्य सेवाएं कैसी हैं, तीसरा विषय है।

 "आजीविका"

 इस विषय में आपको पचास शब्दों में लिखना है कि आपके शहर में आजीविका साधनों की स्थिति क्या है। 'वायु प्रदूषण' और 'उद्योग' के अलावा 'स्टार्टअप', 'शासन में नागरिक जुडाव' तथा 'लिंग विशिष्ट पहल' विषय पर भी आप अपने विचार भेज सकते हैं।  प्रत्येक विषय पर विचार भेजने की टीम शब्द सीमा पचास ही रहेगी।

 विचार भेजने की अंतिम तिथि 05 दिसंबर रखी गई है जो लोग इस प्रतियोगिता में अपने विचार भेजना चाहते हैं वह नगर पालिका परिषद शामली द्वारा जारी व्हाट्सएप नंबर 8923101802 पर भेज सकते हैं। अधिशासी अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि प्रतियोगिता में प्रथम आए विचारों को केंद्र सरकार को भेजा जाएगा और उन्हें पुरस्कृत भी किया जाएगा।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..