सात समुंदर पार महाराजा सूरजमल का बलिदान दिवस मनाते जाट वीर वीरांगना रिपोर्ट देवेंद्र चौहान
*सात समुंदर पार आस्ट्रेलिया में महाराजा सूरजमल का बलिदान दिवस मनाया 🇦🇺❤️🇮🇳*

एड़ीलेड (आस्ट्रेलिया) में सात समुंदर पार विश्व के सिरमौर, भारत भूमि के अजेय महायोद्धा, महाराजा सूरजमल जी का बलिदान दिवस मनाया। क़ौम के महापुरुष का बलिदान दिवस मनाना वो भी विदेश की धरती पर इस से बड़ कर कोई गौरवान्वित करने वाला पल हो ही नहीं सकता। कई सालों पहले जो मुहिम शुरू की थी आज वो रंग ला रही है, विश्व पटल पर क़ौम के महापुरुषों की जयंती व पुण्यतिथि मनाने के प्रयास होने लगे हैं। अब विदेश में रहने वाले भाई भी खुल कर क़ौम के लिए गौरवान्वित पलों को यादगार बनाने में अहम भूमिका निभाने लगे हैं।

क़ौम के सभी भाईयों से पुनः निवेदन है अपने महापुरुषों की जयंती पुण्यतिथि मनाने का प्रयास करो और इस को उत्सव के रूप में मनाओं जिससे युवाओं व छत्तीस बिरादरियों को आपके महापुरुषों के संघर्ष के बारे में जानकारी हो सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदारी युवाओं पर है। क़ौम का इतिहास ज़िंदा है तो आपका वर्तमान और भविष्य सुरक्षित हैं।

इस दौरान बलिदान दिवस पर विनोद मय्यड़, पूनम चौधरी, मीनू सिहाग, प्रवीण अत्रि, पीसी चहल, अंकित घनघस, राहुल, अजय, पीटर पाजी, गौरव, चित्रांश, गुरमित, सहित सभी भाईयों ने महाराजा सूरजमल का बलिदान दिवस मनाया।

*अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद।*
Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image